बहुत खूब जो हमारे नेता( our leaders) ना कर पाए वो ये सक्स कर रहा है, उत्तराखंड( uttrakhand) के व्यंजनों( food dishes) का कर रहा है प्रचार प्रसार(Publicity)

बहुत खूब जो हमारे नेता ( our leaders) कर पाए वो ये सक्स कर रहा है, उत्तराखंड( Uttrakhand) के व्यंजनों का कर रहा है प्रचार प्रसारबहुत खूब जो हमारे नेता ना कर पाए वो ये सक्स कर रहा है, उत्तराखंड के व्यंजनों का कर रहा है प्रचार प्रसार

 

 

मसूरी में सामाजिक कार्यकर्ता पंकज अग्रवाल की उत्तराखंड के पहाड़ी व्यंजनों और उत्पादों को जन जन तक पहुंचाने की पहल, गोष्ठी का किया आयोजन

मसूरी में सामाजिक कार्यकर्ता और गढ़वाली व्यंजनों और उत्पादों को लेकर लगातार प्रमोट कर रहे हैं पंकज अग्रवाल द्वारा मसूरी में पहाड़ी व्यंजनों और उत्पादों को लेकर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें सरकार द्वारा पहाडी व्यंजनों और उत्पादों की अनदेखी को लेकर नाराजगी व्यक्त की गई इस मौके पर शेरो शायरी के माध्यम से भी सरकार पर जमकर तंज कसेे गए। बता दे कि पंकज अग्रवाल द्वारा लगातार पिछले कई सालों से उत्तराखंड के पहाडी व्यंजनों और उत्पादों को लेकर लोगों में जागरूकता के साथ देश विदेश से मसूरी आने वाले लोगों को परोसने का काम भी कर रहे हैं। पंकज अग्रवाल द्वारा अपनी दुकान पर उत्तराखंड के पहाड़ी संस्कृति के साथ कई वर्षों पुराने बर्तनों और सामान आदि को संजोए रखा हुआ है तो लोगो के लिये आर्कषण को केन्द्र बन रही है। परंतु उत्तराखंड सरकार द्वारा पहाडी व्यंजनों और उत्पादों की अनदेखी के कारण वह काफी दुखी है।

पकंज अग्रवाल ने कहा कि पूर्व कि हरीश रावत सरकार द्वारा पहाडी उत्पादों और व्यजनों पर काफी जोर दिया गया था छोटे से लेकर बड़े होटलों तक पानी व्यंजनों को पहुचाने का काम किया गया जिससें पहाड़ी क्षेत्रों में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। परंतु वर्तमान की सरकार ने इस दिशा में कोई भी कदम नहीं उठाए गए है पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में मायूसी है। उन्होंने कहा पूर्ववर्ती सरकार द्वारा कोशिश की गई थी कि सभी बड़े शहरों में उत्तराखंड के पहाड़ी व्यंजनों और उत्पादों को लेकर स्टाल लगाए जाए जिससे कि उत्तराखंड के पहाड़ी उत्पादकों की मांग बड़े और उससे पहाड़ी क्षेत्रों में होने वाले लोगों को रोजगार मिल सके।

पंकज अग्रवाल ने कहा कि उनके द्वारा उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों के साथ हो रहे पलायन और पहाड़ के उत्पादों और व्यंजनों को लेकर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया था जिसमें मौजूद लोगों ने अपनी अपनी बात रखें और सरकार से आग्रह किया कि अगर पहाड़ी क्षेत्रों का विकास करना है तो वहां पर छोटे उद्योग स्थापित करने होंगे और पहाडी क्षेत्र में होने वाले उत्पादो के साथ व्यजनों को लोगो तक पहुचाने होगे। उन्होंने कहा कि देश विदेश के लोग उनके पास मसूरी में उत्तराखंड के पहाड़ी व्यंजनों का लुफ्त उठाने के लिए आते हैं परंतु अन्य जगह यपहाडी व्यजन नाप मिलने के कारण पहाडढी व्यजनों की मांग नही बढ पा रही है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि सरकारी स्तर से उत्तराखंड के साथ अन्य राज्यों में उत्तराखंड के व्यजनों और उत्पादकों को लेकर स्टाल लगाकर प्रचार प्रसार किया जाये जिससे उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों के लोगों को लाभ मिल पाए।

बाइट- पंकज अग्रवाल, पहाड़ी व्यंजनों के प्रचारक

Uttrakhand local dish published

मसूरीट्रे वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष रजत अग्रवाल महामंत्री जगजीत कुकरेजा और कोषाध्यक्ष नागेंद्र उनियाल द्वारा पंकज अग्रवाल द्वारा किए जा रहे हैं पहाड़ी व्यंजनों और उत्पादों को लेकर काम की सराहना करें उन्होंने भी सरकार से मांग करें कि पहाड़ी व्यंजनों और उत्पादो को लेकर सरकारी स्तर पर काम किया जाए।

 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *