Corona की तीसरी लहर दरवाजे पर, लेकिन फिर भी बेफिक्र हम

खबरदार ब्यूरो

कोरोना वायरस( Corona Virus) की तीसरी लहर की आशंका के बीच, जुलाई के पहले 11 दिनों में महाराष्ट्र में कोरोना के 88,130 नए मामले सामने आए। विशेषज्ञों ( Corona Experts)का मानना है कि कोरोना वायरस के मामलों में आ रही ये तेजी तीसरी लहर ( Corona 3rd Wave) की आहट भी हो सकती है क्योंकि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस( Maharastra Corona Virus) पिछली दो लहरों में कुछ इसी तरह के संकेत दिखा चुका हैं।

 

केरल में स्थिति सबसे बुरी( Kerala) 

KHABARDAR Express...

वहीं दूसरी लहर के दौरान एक दिन में करीब 25,000 मामले देखने वाली दिल्ली में 1 से 11 जुलाई के बीच अभी तक केवल 870 केस ही सामने आए हैं। आपको बता दें कि केरल देश का एकमात्र राज्य है जिसने इस दौरान महाराष्ट्र से अधिक मामले दर्ज किए हैं। 1 जुलाई से 10 जुलाई तक, केरल में 1,28,951 नए कोविड -19 मामले दर्ज किए गए।

 

सबसे ज्यादा टीकाकरण, सबसे ज्यादा संक्रमण?

KHABARDAR Express...

महाराष्ट्र के भीतर, कोल्हापुर जिले( Kolapur District) में पिछले 15 दिनों में 3,000 मामले सामने आए हैं, जबकि मुंबई में पिछले तीन दिनों से 600 से कम मामले सामने आ रहे हैं। कोविड टास्क फोर्स के सदस्य डॉ शशांक जोशी ने कहा है कि कोल्हापुर की स्थिति अजीब है क्योंकि इसमें टीकाकरण( vaccination) प्रतिशत सबसे अधिक है और संक्रमण दर भी सबसे अधिक है।

 

5 राज्यों में सबसे अधिक मामले

 

भारत( India Corona Cases) में सोमवार को कोरोना वायरस के 37 हजार 154 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जिसके बाद अब देश में कुल केस 3 करोड़ 8 लाख 74 हजार 376 हो गए हैं। अब देश में इलाजरत मरीजों की संख्या कुल मामलों का 1.46 फीसदी है। फिलहाल भारत में कोरोना के 4 लाख 50 हजार 899 ऐक्टिव केस हैं। हालांकि, अभी भी पांच राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना के सबसे ज्यादा मामले दर्ज हो रहे हैं। केंद्र सरकार भी इन राज्यों से चिंतित है और अब कोरोना संक्रमण की बढ़ोतरी वाले राज्यों में केंद्रीय टीमें भी रवाना कर दी गई हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉक्टर भारती प्रवीण पवार ने बताया कि जिन राज्यों में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, केंद्र सरकार पहले ही वहां अपनी टीमें भेज चुकी हैं। जिन राज्यों में कोरोना के मामले कम नहीं हो रहे हैं उनमें महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश शामिल हैं।

KHABARDAR Express...

IMA का कहना है कि कोरोना की तीसरी लहर करीब है इसलिए फिलहाल धार्मिक यात्राओं-पर्यटन को कुछ दिनों के लिए रोक देना चाहिए साथ ही IMA ने सरकार को कोरोना की तीसरी लहर के बड़े खतरे को देखते हुए पर्यटन स्थलों  को खोले जाने पर चिंता व्यक्त की है, कोरोना की तीसरी लहर के बड़े खतरे के बीच पर्यटन स्थलों को खोले जाने पर इंडियन  मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने चिंता व्यक्त की है. भले ही भारत में नए केस में गिरावट देखी जा रही हो, लेकिन विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर लापरवाही बरती गई तो कोरोना फिर से कहर बरपा सकता है. आईएमए ने केंद्र और राज्य सरकारों से कम से कम तीन महीने के लिए कोरोना गाइडलाइंस को सख्ती से लागू करने की अपील की है. केंद्र और राज्य सरकारों को भेजी गई चिट्ठी में आईएमए ने कहा है कि ‘पर्यटक, तीर्थ यात्रा, धार्मिक उत्साह सभी की जरूरत है, लेकिन कुछ और महीनों तक हम इंतजार कर सकते हैं आईएमए अध्यक्ष डॉ जेए जयलाल और महासचिव डॉ जयेश लेले ने अपनी चिट्ठी में कहा है कि ‘देश केवल कोविड महामारी की विनाशकारी दूसरी लहर से बाहर निकल रहा है और अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है, कोरोना के अभी तक दुनियाभर से मिले सबूतों और किसी भी महामारी के इतिहास से साफ है कि तीसरी लहर आएगी और जल्द ही आने वाली है. आईएमए ने लिखा है कि भारत में टीके लगाने की गति को तेज करके और कोरोना गाइडलाइन( Corona Guid lines) का पालन करके तीसरी लहर के असर को कम किया जा सकता है. अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है, चिट्ठी में कहा गया, ‘ये दुखद है कि जब तीसरी लहर की संभावना बनी है, तब सरकार और जनता दोनों ही बेफ्रिक है और जगह-जगह भीड़ लगाई जा रही है.’ इसके अलावा आईएमए ने ये भी कहा है कि पर्यटन या धार्मिक तीर्थयात्रा को खोलना और बिना टीका लगवाए लोगों को इन सामूहिक समारोहों में जाने की अनुमति देना कोविड -19 संक्रमण की तीसरी लहर फैलाने के लिए सुपर स्प्रेडर साबित हो सकते हैं. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) के हिसाब से भारत में 12 जुलाई तक 4,50,899 एक्टिव केस है.

 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *