तो इस बार इस सीट से चुनाव लड़ेगे हरक सिंह !(Harak singh Rawat planning to change his assembly seat)  भाजपा के वहां के  सिटिग विधायक ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के खिलाफ खोला मोर्चा ( Sitting MLA Openly opposing Harak singh)

खबरदार ब्यूरो

Sat, 01 Jan 2022

तो इस बार इस सीट से चुनाव लड़ेगे हरक सिंह !(Harak singh Rawat planning to change his assembly seat)  भाजपा के वहां के  सिटिग विधायक ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के खिलाफ खोला मोर्चा ( Sitting MLA Openly opposing Harak singh)

 

लैंसडौन से भाजपा के विधायक दिलीप रावत ने कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत के खिलाफ सीधा मोर्चा खोल दिया है। विधायक ने अपने विधानसभा क्षेत्र लैंसडौन के लिए स्वीकृत कार्यों में अड़चन डालने का आरोप लगाते हुए हरक सिंह रावत को निशाने पर लिया है। उन्होंने सरकार को चेताया कि अगर उनके क्षेत्र को नजरअंदाज किया गया तो वे विधानसभा के सामने आमरण अनशन करेंगे। विधायक दिलीप रावत ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजा है।

KHABARDAR Express...KHABARDAR Express...

 Image- Harak singh Rawat Minister Uttrakhand & Dileep Rawat MLA Lansdown

तो इस बार इस सीट से चुनाव लड़ेगे हरक सिंह !(Harak singh Rawat planning to change his assembly seat)  भाजपा के वहां के  सिटिग विधायक ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के खिलाफ खोला मोर्चा ( Sitting MLA Openly opposing Harak singh)

 

गौरतलब है कि इस बार हरक सिंह रावत कोटद्वार की डगर मुश्किल लग रही है उसकी कई वजह हैं एक खास वजह ये भी है कि कोटद्वार में पूर्व कैविनेट मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी ने अपनी जीत के लिए पूरी जीजान झौक रखी है इसीलिए हरक सिंह रावत इस बार शायद ही कोटद्वार से चुनाव लड़े ऐसे में वो अपनी पुरानी विधान सभा सीट लैंसडाउन से इस बार टिकट मांग रहे हैं और इसीलिए वो वहां से भाजपा विधायक दिलीप रावत की राह मुश्किल किए हुए हैं जानकारों की माने तो इस बार दिलीप रावत का टिकट कटना तय माना जा रहा है इसकी वजह है उनके खिलाफ जबर्दस्त एंटीइन्कंवेन्सी का होना ऐसे में लैंसीडाउन से एक मात्र जिताऊ कंडिडेट हरक ही बचते हैं वो लेंसीडाउन से विधायक रह भी चुके हैं इसीलिए जब से इसकी भनक दिलीप रावत को लगी है वो हर वक्त हरक के खिलाफ मोर्चा खोलने से नहीं चूक रहे हैं ऐसे में दोनों का ही एक दूसरे के खिलाफ शीत युद्ध अब सतह पर आ गया है और चुनाव से ठीक पहले ये पार्टी के लिए काफी खतरनांक साबित हो सकता है अगर बीजेपी ने इसका समय रहते संज्ञान नहीं लिया तो लैंसीडाउन की बाजी कांग्रेस भी मार सकती है क्योकि दोनों ही नेताओंकी आपसी कलह का फायदा विपक्ष को होना लाजमी है और वो भी चुनाव से ठीक पहले यही वजह है कि हरक दिलीप के हर काम में अडंगा लगा रहे हैं जिससे दिलीप के खिलाफ महौल बनाया जाय और पार्टी फोरम में खुद की दावेदारी मजबूत की जा सके

 

जो पत्र दिलीप रावत ने लिशा है उसमें लिखा है कि लैंसडौन विधानसभा क्षेत्र में विद्युत वितरण खंड कार्यालय का लोकार्पण 12 दिसंबर 2021 को किया गया था, लेकिन बीस दिन बीतने के बाद भी अधिशासी अभियंता की नियुक्ति नहीं की गई।  उनका आरोप है कि ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत के दबाव में नियुक्ति नहीं की जा रही है।  कालागढ़ वन प्रभाग का कार्यालय पूर्व में लैंसडौन से संचालित होता रहा, लेकिन वन मंत्री के दबाव में अब कैंप कार्यालय कोटद्वार से संचालित किया जा रहा है। ऐसा करने से लैंसडौन स्थित ऑफिस निष्क्रिय हो गया है।

त्रिवेंद्र रावत ने मुख्यमंत्री रहते एक साल पहले मैदावन-दुर्गादेवी मार्ग को खोलने की घोषणा की थी, लेकिन अब वन मंत्री इसका श्रेय ले रहे हैं। विधायक रावत ने कहा कि उनके क्षेत्र की लगातार अनदेखी की जा रही है, जिसे वे किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने चेताया कि अगर तीन दिन के अंदर उनकी विधानसभा क्षेत्र की समस्याओं का निस्तारण नहीं किया गया तो वे आमरण अनशन करेंगे, जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

KHABARDAR Express...

Image- Dileep Rwat MLA Lansdown

तो इस बार इस सीट से चुनाव लड़ेगे हरक सिंह !(Harak singh Rawat planning to change his assembly seat)  भाजपा के वहां के  सिटिग विधायक ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के खिलाफ खोला मोर्चा ( Sitting MLA Openly opposing Harak singh)

इस पूरे मामले में समपर्क करने पर  डा. हरक सिंह रावत, वन एवं ऊर्जा मंत्री का कहना था कि  पूर्व में वहां कार्यरत अधिशासी अभियंता का प्रमोशन की वजह से तबादला हो गया है। और विभाग ने फौरन ही वहां नए अधिशासी अभियंता की तैनात कर दी गयी है। क्योंकि कालागढ़ वन प्रभाग कार्यालय भी लैंसडाउन में ही है। और उसे वहां से नहीं हटाया गया है। जहां तक मेरी जानकारी है, टाइगर रिजर्व के कामों की वजह से अधिकारी आजकल अपना ज्यादातर समय कोटद्वार में ही दे रहें हैं। और विधायक जी की उनके विकास के कामों में मेरे जरिए अड़चन डालने की बात करना मेरी भी समझ से परे है ।

 

 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *