अगर आप ऑफिस जाते हैं तो ये खबर आपके काम की है( Good News for office going), नएं साल( New Year) से हफ्ते में केवल इतने दिन ही ऑफिस जाओगे आप ( Weekly days change), आपकी बेसिक सैलरी और PF की रकम पर भी पड़ेगा असर (  Besic salary, PF deducted)

खबरदार ब्यूरो

19December,2021

अगर आप ऑफिस जाते हैं तो ये खबर आपके काम की है( Good News for office

going), नएं साल( New Year) से हफ्ते में केवल इतने दिन ही ऑफिस जाओगे आप

( Weekly days change), आपकी बेसिक सैलरी और PF की रकम पर भी पड़ेगा असर

(  Besic salary, PF deducted)

नए श्रम कानून के तहत कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव आएगा.

नए श्रम कानून के तहत कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव आएगा.

नए श्रम कानून लागू होने के बाद कर्मचारियों के हाथ में आने वाला वेतन (Salary Decrease) घट जाएगा. वहीं,

कंपनियों को ऊंचे पीएफ दायित्व का बोझ उठाना पड़ेगा. नए ड्राफ्ट रूल्‍स के मुताबिक, बेसिक सैलरी (Basic Salary)

कुल वेतन की 50 फीसदी या ज्‍यादा होनी चाहिए.

नई दिल्‍ली. नए श्रम कानूनों (labour code law) के मुताबिक़ अब आपको हफ्ते में केवल 4  दिन ही ऑफिस जाना होगा और 3  दिन आपकी एक हफ्ते में छुट्टी होंगी, दरअसल  मोदी सरकार देशभर के श्रम कानूनों को नौकरीपेशा लोगों के मनपसंद के बना रही है इसी कड़ी में अगले साल से सर्कार की मंशा है कि नौकरी पर जाने वाले लोग हफ्ते में केवल 4  दिन ही ऑफिस जाएं और 3  दिनों की उनकी छुट्टी हो जिससे 4  दिन हर स्टाफ मन लगाकर काम करें  और हफ्तेभर का काम 4 दिन में मन लगाकर पूरा हो जय जिससे श्रमिकों के हितों की भी रक्षा हो सकेगी    मोदी सरकार जल्द से जल्द श्रम संहिताओं (Labour Codes) को लागू करना तो चाहती है,  गौरतलब है कि देशभर के 13  राज्यों ने नायें श्रमिक कानूनों को लेकर अपनी सहमति दे दी है  उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों (UP Assembly Elections 2022) के बाद सरकार इन कानूनों को लागू करने जा रही 

अगर आप ऑफिस जाते हैं तो ये खबर आपके काम की है( Good News for office

going), नएं साल( New Year) से हफ्ते में केवल इतने दिन ही ऑफिस जाओगे आप

( Weekly days change), आपकी बेसिक सैलरी और PF की रकम पर भी

पड़ेगा असर (  Besic salary, PF deducted)

नया कानून लागू होने से घट जाएगी टेक होम सैलरी

नए श्रम कानून लागू होने के बाद कर्मचारियों के हाथ में आने वाला वेतन (Salary Decrease) घट जाएगा. वहीं, कंपनियों को ऊंचे पीएफ दायित्व का बोझ उठाना पड़ेगा. नए ड्राफ्ट रूल्‍स के मुताबिक, बेसिक सैलरी (Basic Salary) कुल वेतन की 50 फीसदी या ज्‍यादा होनी चाहिए. इससे ज्यादातर कर्मचारियों के सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव आएगा. बेसिक सैलरी बढ़ने से पीएफ और ग्रेच्युटी (PF & Gratuity) के लिए कटने वाला पैसा बढ़ जाएगा. बता दें कि इसमें जाने वाला पैसा बेसिक सैलरी के अनुपात में तय किया जाता है. अगर ऐसा होता है तो कर्मचारियों की टेक होम सैलरी (Take home Salary) घट जाएगी. हालांकि, रिटायरमेंट पर मिलने वाला पीएफ और ग्रेच्युटी का पैसा बढ़ जाएगा.

 
 
                                           

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *