उत्तराखंडियत( Uttrakhand culture) बचाने के बहाने मिशन-2022( Mission- 22)  में जुटी कांग्रेस( Congress)

खबरदार ब्यूरो

Wed, 01 Dec 2021

उत्तराखंडियत( Uttrakhand culture) बचाने के बहाने मिशन-2022( Mission- 22)  में जुटी कांग्रेस( Congress)

पूर्व सीएम हरीश रावत का ऐलान आप भी जानें  क्या है साल 22 को फतह करने का हरदा प्लान

मिशन-2022 में जुटी कांग्रेस पूर्व सीएम हरीश रावत का ऐलान,उत्तराखंडियत बचाने को जानें क्या बनाया प्लान

उत्तराखंडियत( Uttrakhand culture) बचाने के बहाने मिशन-2022( Mission- 22)  में जुटी कांग्रेस( Congress)

मिशन-2022 में जुटी कांग्रेस विधानसभा चुनाव में उत्तराखंडियत बचाने को लेकर अभियान चलाएगी। मंडुआ, गन्ना, शिल्पकला के लिए उचित मंच तैयार करने के लिए एक अभियान छेड़ने वाले हैं। कांग्रेस भवन में पत्रकारों से बातचीत में चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार ने उत्तराखंड की हमेशा उपेक्षा की है।राज्य से जुड़े कोर इश्यू को हमेशा ही नकारा गया है । साथ ही कई मौको पर जनता के हितों को चोट पहुंचाई गई है। उत्तराखंडियत को चोट पहुंचाई गई है। वो इसको जनता तक लेकर जाएंगे। उनकी कोशिश होगी कि एक महीने के भीतर इस मसले को विधानसभा क्षेत्रों के अलावा चुनावी केंद्रों तक पहुंचा जाएगा। इस अभियान में ऐसी महिलाओं और युवाओं को साथ जोड़ा जाएगा, जो चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। वे उत्तराखंडियत की उपेक्षा करने वालों को सार्वजनिक करेंगे। अभियान से जुड़ने वालों को उत्तराखंडी टोपी पहनाएंगे।
कोरोना पर भाजपा के मानकों पर भी सरकार को घेरा
 पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि कोरोना पर भाजपा के हमेशा दोहरे मानक रहे हैं। भाजपा की रैलियों से जहां कोरोना नहीं फैलता, वहीं दूसरों को कोरोना प्रोटोकॉल का पाठ पढ़ाया जाता है। ये भाजपा के दोहरे मानक हैं
KHABARDAR Express...

देवस्थानम बोर्ड के भंग होने को बताया कांग्रेस की जीत

सरकार द्वारा हाल ही में देवस्थानम एक्ट वापस लिए जाने को पूर्व सीएम हरीश रावत ने कांग्रेस की जीत करार दिया है।उन्होंने कहा कि सरकार ने अपने भरे मन से इस एक्ट को वापस लिया है। इस पूरे मामले में कांग्रेस का  शुरु से ही सरकार पर दबाव रहा, जिसकी वजह से सरकार को इसे वापस लेने को मजबूर होना पड़ा। साथ ही हाल ही में हुए चुनाव के नतीजों को देखते हुए भी सरकार ने अपना पुराना निर्णय वापस लिया। सरकार को आत्मसमर्पण करना होगा। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि सीएम ने देवस्थानम एक्ट को वापस लेते हुए फिलहाल शब्द का इस्तेमाल किया है। इसका क्या अर्थ है। स्पष्ट करना होगा। और अब बद्रीनाथ और केदारनाथ मंदिर समिति का क्या होगा, ये भी सरकार को साफ करना होगा ।

KHABARDAR Express...

गैरसैंण में विधान सभा सत्र को लेकर सरकार पर कसा तंज, कहा सरकार को गैरसैंण में लगी ठंड

उत्तराखंडियत( Uttrakhand culture) बचाने के बहाने मिशन-2022( Mission- 22)  में जुटी कांग्रेस( Congress)

पूर्व सीएम ने कहा की सरकार को गैरसैंण में सत्र कराने के नाम पर ही ठंड लग गई है। ये हिमालयी राज्यों का अपमान है। इस अपमान के लिए सरकार माफी मांगे। अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि स्पीकर का उन्हें भी फोन आया। पूछा कि सत्र कहाँ होना चाहिए, तो मैंने कहा कि सत्र गैरसैंण में ही हो। इसके बावजूद दबाव में सत्र देहरादून कराया जा रहा है। गैरसैंण में कांग्रेस ने विधानसभा घेराव का कार्यक्रम तय किया था। अब उसे देहरादून में करने का फैसला कोर कमेटी की बैठक में लिया जाएगा।

KHABARDAR Express...

उत्तराखंडियत( Uttrakhand culture) बचाने के बहाने मिशन-2022( Mission- 22)  में जुटी कांग्रेस( Congress)

ये तो साफ है कि हरीश रावत ये अच्छी तरह से जानते हैं कि सुर्खियों में कैसे बना रहा जा सकता है वो भी चुनावी साल में इसीलिए हरीश रावत इस वक्त प्रचार में बने रहने का कोई भी मौका नहीं गवाना चाहते हैं तब भले देवास्थानम बोर्ड के रद्द होने के फैसले को वो अपनी जीत क्यों ना बता दे ये अलग बात है कि इस पूरे आंदोलन के दौरान कांग्रेस दूर दूर तक देवास्थानम बोर्ड का विरोध कर रहे आंदोलनकारियों के साथ नहीं दिखी  लेकिन जब सरकार ने फैसला वापस लिया तो हरीश रावत फौरन मैदान में कूद पड़े हैं और इसे अपनी जीत बता रहे हैं, हां ये जरुर गौर करने वाली बात है कि करीश रावत ने शुरु से ही उत्तराखंड के उत्पादों को एक अलग पहचान जरुर दी है तब इसके लिए उनके दरिए की गई ककड़ी पार्टी हों या फिर लीची या आम पार्टी इन पार्टियों के बहाने हरीश रावत ने उत्तराखंड के उत्पादों की ब्रॉडिग जरुर की है

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *