कॉर्बेट पार्क( Corbet National park uttrakhand ) पर जल प्रलय( Heavy rain) का कहर, अब तक हो चुका करोड़ो का नुकसान( Loss in Corer), ये लोग हैं जिम्मेंदार

खबरदार ब्यूरो

कॉर्बेट पार्क( Corbet National park uttrakhand ) पर जल प्रलय( Heavy rain) का कहर, अब तक हो चुका करोड़ो का नुकसान( Loss in Corer), ये लोग हैं जिम्मेंदार

 बीते दिनों  आई जल प्रलय की वजह से उत्तराकंड के कुमाऊं इलाके में खासा नुकसान पहुंचा है। इससे रामनगर में भी कासा नुकसान पहुंचा है । बीते दिनों हुई भारी बारिश से कॉर्बेट पार्क के लैंडस्केप और वन प्रभाग रामनगर में बने रिसोर्ट में कोसी नदी का पानी घुस आया था। जिससे कई सैलानी रिसोर्ट में ही फंस गए थे। ऐसे में तत्काल ट्रैक्टर और राफ्ट के जरिये यहां फंसे सैलानियों को सुरक्षित बाहर निकाला गया था।

  वहीं, सामाजिक कार्यकर्ता गणेश रावत ने रिसोर्ट संचालकों पर लापरवाही बरतने  का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने प्रशासन से इन  रिसोर्टस पर कार्रवाई की भी मांग की है। गणेश रावत ने कहा कि कॉर्बेट लैंडस्केप से लगते अधिकतर रिसोर्टस ऐसे हैं जो रिवर साइड में हैं और सैलानी कुदरत का आनंद लेने के लिए ऐसे कमरों की डिमांड ज्यादा करते हैं। वहीं, कई रिसोर्ट हैं जिनमें सैलानियों की सुरक्षा का कोई ध्यान नहीं रखा गया है।

KHABARDAR Express...

प्रलय से उत्तराखंड के कुमाऊ इलाके को भारी नुकसान

कॉर्बेट पार्क को भी हुआ नुकसान

पार्क के 100 कैमरों को नुकसान

कई रिर्जाटस में घुसा कोसी का पानी

पर्य़टको की जान पर आफत

कई पर्यटक बाढ के पानी में फंसे

कड़ी मशकत के बाद सैलानियों निकाला सुरक्षित

  गणेश रावत ने कहा कि फंसे हुए सैलानियों और डूबे हुए रिसोर्ट की जो तस्वीर सामने आई है। उससे क्षेत्र के पर्यटन पर गलत असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि 2010 की बाढ़ में भी ऐसे कई रिसोर्ट में पानी घुस गया था, जिनके कमरे तक बह गए थे। उन्होंने कहा इस तरीके से अगर कोई भी रिसोर्ट बना रहे हैं और सुरक्षा मानकों का ध्यान नहीं ऱखा जाएगा तो इससे कहीं ना कहीं पर्यटकों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ होगा

वहीं, हाईकोर्ट ने भी  पाया है कि रिवर साइड पर बने कई रिसोर्ट हैं ऐसे हैं जो जंगल में अतिक्रमण कर बनाए गए हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि इस पर अभी स्टे है, लेकिन ये चीजें जाहिर तौर पर सामने आई थी। गणेश रावत ने कहा कि इन चीजों को लेकर कोई ना कोई गाइडलाइन बनाई जाने की जरूरत है।

KHABARDAR Express...

कॉर्बेट पार्क( Corbet National park uttrakhand ) पर जल प्रलय( Heavy rain) का कहर, अब तक हो चुका करोड़ो का नुकसान( Loss in Corer), ये लोग हैं जिम्मेंदार

   वहीं, कॉर्बेट पार्क में व्यवसाय करने वाले संजय छिम्वाल ने कहा कि बीते 2 सप्ताह पहले आई आपदा से कई लोगों पर इसका असर पड़ा है ,उन्होंने कहा कि कोरोना के बाद जैसे ही सब सामान्य हो रहा था और पर्यटक कॉर्बेट पार्क की तरफ रुख कर रहे थे। तभी बाढ़ की वजह से आई आपदा की वजह से कॉर्बेट की ऐसी तस्वीरें सभी जगह चली कि आज पर्यटक अपनी सभी बुकिंग कैंसिल करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वो उम्मीद  करते हैं कि आने वाले समय में सभी चीजें सामान्य हो जाएंगी ।

  कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के निदेशक राहुल कुमार ने कहा कि 18, 19 तारीख को हुई बारिश की वजह से कॉर्बेट पार्क के अलगअलग जोनों में जो रोड हैं वो टूट चुकी हैं। ऐसे में अब बारिश से हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है। कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के निदेशक राहुल कुमार ने कहा कि ऑल इंडिया टाइगर ऐस्टीमेशन के लिए 550 कैमरे लगाए गए थे, जिसमें कॉर्बेट पार्क के अंदर के करीब 100 कैमरे बारिश में बह गए हैं। उन्होंने कहा कि कॉर्बेट पार्क को इस आपदा की वजह से करीब 4 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है हालांकि अब कॉर्बेट पार्क का झिरना, ढेला जोन के साथ ही गर्जिया और बिजरानी जोन को फिलहाल खोल दिया गया है।

KHABARDAR Express...

 रामनगर वन प्रभाग के डीएफओ चंद्रशेखर जोशी ने कहा कि कोसी नदी कॉर्बेट और वन प्रभाग को डिवाइड करती है। उन्होंने कहा कि जो हमारा क्षेत्र है उसमें से कई रिसॉर्ट हैं। जो रोड से लेकर कोसी नदी के पास तक हैं। जिसमें हमारी टीम लगातार निगरानी रख रही है  साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि विभाग समयसमय पर अतिक्रमण अभियान चलाता है । कोसी नदी की तरफ अगर कोई सैलानी रुख करते हैं तो उनको चेतावनी देकर खाली करवा दिया जाता है। उन्होंने कहा कि जो 18 और 19 को आई आपदा से नदी कटाव क्षेत्र काफी बढ गया  है। उन्होंने  ये भी कहा कि पार्क के  सुंदरखाल इलाके के घरों को भी काफी नुकसान हुआ है। हलांकि उन्होंने कहा कि आपदा से हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है

KHABARDAR Express...

कॉर्बेट पार्क( Corbet National park uttrakhand ) पर जल प्रलय( Heavy rain) का कहर, अब तक हो चुका करोड़ो का नुकसान( Loss in Corer), ये लोग हैं जिम्मेंदार

पर्यटकों की बढ़ती तादात की वजह से कॉर्बेट नेशनल पार्क में स्थानीय होटल और रिर्जाट संचालकों ने बड़ी तादात में पार्क के भीतर अतिकर्मण किया हुआ है जिसकी बजह से भारी बारिश के दौरान कोसी नदी का पानी इन रिर्जाट में घुस जाता है जिससे कई पर्यटकों की जान पर बन आती है हाल में आई आपदा की वजह से भी कई पर्यटक बाढ के पानी में फंस गए थे अब समासेवियों की मांग है कि इन रिर्जाट को अतिक्रमण करने से रोका जाए जिससे पर्यटक भी सुरक्षित रह सकें और कॉर्बेट पार्क भी सुरक्षित रह सकें

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *