देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से तीन की मौत, ध्वस्त घरों के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

उत्तराखंड में बारिश के बाद पहाड़ों पर नदियां उफान पर आ गई हैं। इस बीच उत्तरकाशी में कल देर रात बादल फटने के बाद पैदा हुए हालात में तीन लोगों की मौत हो चुकी है। मांडो में 02 महिलाएं और  01 बच्चे का शव बरामद किया  जा चुका है। शवों को जिला अस्पताल में लाया गया है। न्यूज एजेंसियों ने बताया है कि बादल फटने की घटना के बाद से मांडो गांव में अब भी चार लोग लापता हैं। 

 

भारी बरसात की वजह से भागीरथी नदी समेत गाड़-गदेरे उफान पर आ गए हैं। बादल फटने से गांव मांडो, निराकोट, पनवाड़ी और कंकराड़ी के आवासीय घरों में पानी घुस गया। साथ ही गदेरा उफान पर आने से तीन लोग मलबे में फंसकर घायल हो गए। 

देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से तीन की मौत, ध्वस्त घरों के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

एसडीआरएफ और आपदा प्रबंधन विभाग की टीम ने गणेश बहादुर पुत्र काली बहादुर, रविन्द्र पुत्र गणेश बहादुर, रामबालक यादव पुत्र मकुर यादव को रेस्क्यू कर अस्पताल पहुंचाया। घायलों का इलाज चल रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक अब तीनों लोग खतरे से बाहर हैं।  जानकारी के मुताबिक, मांडो गांव में नौ मकानों में पानी घुस गया है। जबकि दो मकान पूरी तरह से धवस्त हो गए हैं।इसके अलावा कई जगहों पर वाहनों के बहने की भी सूचना मिल रही है। 

मृतकों के नाम:

1- माधरी पत्नी देवानन्द, उम्र 42 वर्ष, ग्राम मांडो

2- रीतू पत्नी दीपक, उम्र 38 वर्ष, ग्राम मांडो

3- कुमारी ईशू पुत्री दीपक, उम्र 06 वर्ष, ग्राम मांडो

सीएम ने दिए रात बचाव कार्य के निर्देश

KHABARDAR Express...

देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से तीन की मौत, ध्वस्त घरों के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

घटना की सूचना मिलने के बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी ने डीएम को राहत और बचाव कार्य शीर्ष प्राथमिकता पर कराने के निर्देश दिए हैं।

उत्तराखंड: कुमाऊं में मूसलाधार बारिश से मची तबाही, पूर्णागिरि-टनकपुर मार्ग बंद, 150 यात्री फंसे, तस्वीरें…

भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी

मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटे में देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और पौड़ी जैसे जिलों में अत्यंत भारी बारिश की संभावना है। राज्य के बाकी हिस्सों में भी भारी से बहुत भारी बारिश के आसार है। मौसम विभाग की ओर से ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

अगले 24 घंटे में यूपी, गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में भारी बारिश के आसार हैं. मौसम विभाग के मुताबिक 

जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम उत्तर प्रदेश, हरियाणा चंडीगढ़ और दिल्ली, उत्तर पश्चिम मध्य प्रदेश, पूर्वोत्तर राजस्थान, उत्तरी कोंकण

बिहार, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा के कुछ हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है.

देश भर के कई इलाकों में मूसलाधार बारिश हो रही है. राजधानी दिल्ली से लेकर आर्थिक राजधानी मुंबई तक झूमकर बादल बरस रहे हैं.

KHABARDAR Express...

 

देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से तीन की मौत, ध्वस्त घरों के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

यहां आज सुबह 5 बजे के बाद से लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है, जिसकी वजह से कुछ इलाकों में पानी भर गया है.

मुंबई में भारी बारिश की संभावना को देखते हुए मौसम विभाग (India

द्वारा 24 घंटे का रेड अलर्ट (Heavy Rain Red Alert in Mumbai) जारी किया गया है. तीन घंटे की बरसात ने मुंबई की सूरत बिगाड़ दी है.

कहीं पानी में कार तैरती दिखी तो कहीं बाइकें बहने लगीं. कुछ इलाकों में घरों में भी पानी घुस गया है. वहीं कई ऐसे इलाके हैं जहां सड़कें तालाब हो गईं, बस अड्डे टापू हो गए और ट्रेन की पटरियां पानी में डूब गईं. वहीं, हवाई यातायात पर भी मौसम का असर देखने को मिला है. मुंबई में बारिश और लैंड स्लाइड ने जबरदस्त तबाही मचाई. रने वालों का आंकडा अब 32 हो चुका है. सिर्फ चैंबूर के हादसे में 19 की मौत हुई है जहां पहाड़ का मलबा गिरा था. कुल 5 हादसे हुए हैं. शनिवार रात 11 बजे बारिश हुई थी और रविवार को भी जारी रही. इस दौरान भांडुप में एक, विक्रोली में 10, अंधेरी वेस्ट में 1 और कांदिवली ईस्ट में एक की मौत हो…

KHABARDAR Express...

देशभर( India Country) में बारिश का कहर( Rain Disaster), उत्तराखंड के उत्तरकाशी( Uttrakhand Utterkashi District) में बादल फटने( Cloud burst) से 3 लोगों की हुई मौत( People died)

उत्तराखंड: उत्तरकाशी में बादल फटने से तीन की मौत, ध्वस्त घरों के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

चैंबूर में रेस्क्यू आपरेशन पूरा हो चुका है. कुल 19 मौतों की खबर है. आज भी मुंबई में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. इसको लेकर टीमें सक्रिय हैं. 

एहतियात बरता जा रहा है कुछ इलाकों में भारी बारिश हो सकती है. तेज हवाएं भी चल सकती हैं और इनकी रफ्तार 65 किलोमीटर प्रतिघंटा रह सकता है.

मुंबई के कई इलाकों में बारिश हो रही है. सायन से कुरला और हिंदमाता तक बीती रात अच्छी बारिश हुई. कई जगह पानी भर गया. इससे आवाजाही पर भी असर पड़ा है. निचले इलाके भी पूरी तरह डूब गए हैं

दिल्ली में कई जगह सड़कों पर पानी के भर जाने से ट्रैफिक जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई है. नई दिल्ली से लेकर दक्षिण दिल्ली और पूर्वी दिल्ली में अच्छी इससे लोगों को तेज गरमी और उमस से राहत मिली. लेकिन भारी बारिश के कारण सड़कें पानी से लबालब हो चुकी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के मुताबिक आज दिल्ली में कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम और कहीं-कहीं भारी बारिश (Heavy Rain) का सिलसिला जारी रहने वाला है…

दक्षिण दिल्ली के आरके पुरम और लाजपतनगर जैसे इलाकों में भी बारिश का सिलसिला अब तक जारी है. पश्चिमी दिल्ली के नजफगढ़, उत्तम नगर, द्वारका, बिजवासन, महिपालपुर समेत कई इलाकों में सुबह से ही झमाझम बारिश (Incessant Rainfall) जारी है.

 

मॉनसून की बारिश से लोगों को जहां उमसभरी गर्मी से निजात मिली है तो वहीं, धान की खेती (Paddy Cultivation) करने वाले किसानों के लिए भी राहत है. धान की रोपाई (Paddy Crop) करने वाले किसानों के लिए बारिश (Rain) वरदान है. लंबे समय से खेतों में धान की फसल पर सिंचाई को लेकर बना संकट बारिश (Rain) से खत्म हो गया है. बारिश होने से  धान की फसल (Paddy Crop) करने वाले किसान खुश… हैं. दरअसल, मॉनसून (Monsoon) की देरी की वजह से फसलें सूखे की मार झेल रही थीं हीं, आसमान छू रहे डीजल के दाम के कारण सिंचाई करने से खेती में लागत अधिक आ रही है. लेकिन अब बारिश होने से खेतों में पानी लबालब भर गया है, जो फसलों के लिए काफी फायदेमंद होगा . कृषि वैज्ञानिकों का भी मानना है कि धान और गन्ने की फसल के लिए ये बारिश संजीवनी साबित होगी.

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *