Sunday, May 9, 2021
Dark black and orange > Featured > लखनऊ में आत्मदाह

लखनऊ में आत्मदाह

लखनऊ में आत्मदाह

आर सी ढौंडियाल

मामूली से विवाद के बाद पुलिस की घोर हीलाहवाली की बजह से एक दिल दहलाने वाला अंजाम लखनऊ की सडकों पर देखने को मिला… मामली सी नाली के विवाद में हमला और फिर इंसाफ न मिलने से आहत महिला ने अपनी अपनी बेटी के साथ खुद को मुख्यमंत्री दफ्तर के आगे आग के हवाले कर दिया….माँ 70 खीसदी ऐर बेटी 15 फीसदी झुलस गई हैं… कुछ दिन अस्पताल में इलाज के बाद महिला की मौत हो गई है

    मजबूरी में अपनी जान से खेलने वाली 55 साल की सोफिया और उनकी 28 साल की बेटी गुडिया अमेठी की रहनेवाली हैं … अस्पताल में भर्ती मामूली सी झुलसी गुडिया ने ये पूरा मामले की असली बजह बताई….उनका कहना था कि गाँव में कुछ लोगों ने नाली के विवाद में उनकी माँ और उसे सबके सामने पिटाई कर दी.. जब वो इस बात की शिकायत करने थाने पहुँचे तो दबंग लोग वहाँ भी आ धमक गए और पुलिस के सामने ही माँ बेटी को थाने से बाहर भगा दिया गया….बाद में उच्चाधिकारियों की पहल से आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो पाया…. गुडिया के मुताबिक पुलिस में शिकायत के बाद दबंग लोग और भड़क गए और देर रात उनके घर आ धमके और लाठी और डंडों से  उन दोनों की दुबारा से पिटाई कर डाली…गुडिया ने कहा कि थक हार कर माँ- बेटी ने मुख्यमंत्री के दफ्तर के आगे जाने का फैसला किया….और अब पूरा मामला इस तरीके से सब के सामने है…इस मामले में एसपी हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि पुलिस ने वक्त रहते आग पर काबू पा लिया था… अब अमेठी पुलिस से संम्पर्क किया जा रहा है… सोफिया और गुडिया की तहरीर पर अर्जुन, सुनील, राजकरण और राममिलन के खिलाफ जामों थाने में मामला दर्ज कर दिया गया है…..

इस पूरे मामले में सवालों के घेरे में अमेठी का स्थानीय पुलिस और प्रशासन है दलअसल अगर वो समय रहते इस मामले में कार्रवाई कर देता तो शायद ये नौबत नहीं आती लेकिन उनकी घोर अंदेखी के चलते आज एक बेबस महिला और उसकी बच्ची को अपनी जान से हाथ धोना पडता……उत्तर प्रदेश में हमेशा से ही दबंग लोग गरीब बेसहारा लोगों पर जुल्म ढाते रहे हैं लेकिन बडा सवाल ये है कि कानून का राज होने के बाद भी दबंग लोग आखिर किसकी सह पर कानून अपने हाथ में लेते हैं और गरीब और मजबूर लोगों पर जुल्म ढाहते हैं… और कानून का राज होने के बावजूद कानून का मजाक खुद कानून के रखवालों के सामने उडाते हैं  

इससे पहले भी कई बार विधान सभा के बाहर कई बार आत्मदाह की कोशिश हुई है लेकिन इंसाफ में हो रही देरी की बजह से इन मामलों में लोगों को न्याय नही मिल पाया जिसकी वजह से दबंगों के हौसले दिनों दिन बढते गए और वो मजबूर असाय लोगों पर जुल्म ढाते गए….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *