ये वादियाँ बुला रही हैं हमें….

खबरदार डेस्क

उत्तराखंड की वादियाँ तेजी से फिल्म डायरेक्टरों और प्रोड्यूसरों की पहली पसंद बनता जा रहा है। इसका सबूत है मौजूदा समय में प्रदेश में शूटिग के लिए 350 से ज्यादा फिल्मों को परमिशन मिल चुकी है .

उत्तराखंड की वादियाँ तेजी से फिल्म डायरेक्टरों और प्रोड्यूसरों की पहली पसंद बनता जा रहा है। इसका सबूत है मौजूदा समय में प्रदेश में शूटिग के लिए 350 से ज्यादा फिल्मों को परमिशन मिल चुकी है …फिल्म शूटिंग के लिए तेजी से बन रहे नएँ डेस्टीनेशन बनने से यहां के स्थानीय कलाकार,डायरेक्टर,प्रोड्यूसर और तकनिशियन काफी खुश है…..क्या है पूरी खबर पढ़ते हैं ये रिर्पोट

उत्तराखंड की वादियाँ तेजी से फिल्म डायरेक्टरों और प्रोड्यूसरों की पहली पसंद बनता जा रहा है। इसका सबूत है मौजूदा समय में प्रदेश में शूटिग के लिए 350 से ज्यादा फिल्मों को परमिशन मिल चुकी है .

माया नगरी मुम्बई अब नए कलाकारों को रास नहीं आ रही है और हो भी क्यों ना जिस शहर में किराऐ के अद्द फ्लैट का किराया ही लाखों में हो तो आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि एक उभरता कलाकार आखिर कैसे उस शहर में टिक सकता है… दरअसल अब माया नगरी में प्रतिभा आप तब ही दिखा सकते हो जब आपकी जेब रुपऐ से गर्म हो ऐसे में फिल्म लाइन में स्ट्रगल कर रहे कलाकारों के लिए मुम्बई में टिके रहना सम्भव नहीं हो पा रहा है इन उभरते कलाकारों के लिए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की यूपी में फिल्म सिटी बनाने की घोषणा काफी सुकून देनेवाली है

वही फिल्म जगत से जुडे कलाकारों से लेकर प्रोड्यूसर,डायरेक्टर और तकनीकीशियन उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनने की खबर से काफी खुश है।मुम्बई से फिल्म प्रोडक्सन की ट्रैनिग लेकर अपने प्रदेश वापस लौटे युवा फिल्म डायरेक्टर विजेश ख्वास  का भी कुछ यही मानना है उनका कहना है कि अपने पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनने से उत्तराखंड के कलाकारों और फिल्म लाइन से जुड़े तमाम लोगों को इस फिल्म सिटी बनने से काफी फायदा होगा। इसकी वजह साफ है यहां पर फिल्मों के लिए जो माहौल है वो माया नगरी मुम्बई से कतई कम नहीं है।

उत्तराखंड में फिल्मों के लिए माहौल बनने और इसकी वजह से रोजगार मिलने की खबर सुनकर यहां के स्थानीय कलाकार भी काफी खुश नजर आ रहे है। स्थानीय कलाकारों का मानना है कि राज्य सरकार पहले से ही इस सूबे को  फिल्मी प्रदेश बनाने के लिए  गम्भीरता से पहल कर रही है। और यहां पर फिल्मों में काम करके बहुत मजा भी आता  है। यहां की शूटिग की लोकेशनस और लोग दूसरे राज्यों में नही मिल सकते हैं ।

मौजूदा दौर में बॉलिवुड़ की जो तस्वीर लोगो के जहन में बनती जा रही है उससे साफ है कि देश के लोग एक और दूसरा बॉलिबुड़ अपने देश में चाहते हैं और ये सही भी है इसकी असल वजह ये है कि हालिया दिनों में सुशांत सिहं राजपूत की मौत के बाद जो नजारा मायानगरी का दर्शकों ने अपने टीवी स्क्रीन पर देखा वो सबके जेहन में शिहरन पैदा करने वाला था.. आज हर माँ बाप चाहते हैं कि उनका लाडला फिल्मों में काम तो करें लेकिन ड्रग्स की दुनिया के चंगुल में ना फंसे.. सब जानते हैं ये तब ही हो पाएगा जब फिल्म सिटी देश के बाकी राज्यों मे भी बनायी जायेगी जिससे नए उभरते कलाकारों को फिल्मों में काम करने का मौका मिलसके और उनका खर्चा भी बच सके

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *