ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो की कुर्सी पर संकट, वैक्सीन खरीद में घोटाले का आरोप

खबरदार ब्यूरो

ब्राजील में कोवैक्सीन के बाद अब एस्ट्राजेनेका पर बवाल, हर खुराक पर 1 डॉलर रिश्वत का आरोप लगा है… ब्राजील की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की खरीद में भी अनियमितताएं हो सकती हैं. फोल्हा डी एस पाउलो अखबार के अनुसार, बोल्सोनारो सरकार ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की प्रति खुराक रिश्वत मांगी.कोवैक्सीन के बाद अब एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को लेकर ब्राजील सरकार घिरती जा रहीहै.

KHABARDAR Express...

ब्राजील की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की खरीद में भी अनियमितताएं हो सकती हैं. फोल्हा डी एस पाउलो अखबार के अनुसार, बोल्सनारो सरकार ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की प्रति खुराक रिश्वत मांगीब्राजील की अखबार का दावा है कि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की हर खुराक पर 1 अमेरिकी डॉलर की रिश्वत की मांग की गई है. हालांकि, एस्ट्ब्राजील की अखबार का दावा है कि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की हर खुराक पर 1 अमेरिकी डॉलर की रिश्वत की मांग की गई है. हालांकि, एस्ट्राजेनेका ने इन दावों का कंपनी का कहना है कि हम ब्राजील में किसी भी बिचौलियों के साथ काम नहीं करते हैं, सभी समझौते सीधे फियोक्रूज़ (ओस्वाल्डो क्रूज़ फाउंडेशन) और संघीय सरकार रिपोर्ट्स के अनुसार, दावती मेडिकल सप्लाई ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 400 मिलियन खुराक के लिए पोर्टफोलियो की मांग की थी, जिसमें प्रत्येक हर खुराक की कीमत 3.5 अमेरिकी डॉलर थी. फिर एक खुराक की कीमत 15.5 अमेरिकी डॉलर हो गई. दावा किया जा रहा है कि 400 मिलियन डोज के लिए एक डॉलर की रिश्वत मांगी गई है.

KHABARDAR Express...

इससे पहले ब्राजील ने भारत बायोटेक के साथ कोवैक्सीन के लिए किए गए सौदे को सस्पेंड कर दिया था. ब्राजील में इस डील पर काफी सवाल खड़े हो रहे थे, जिसके बाद अब 32 करोड़ डॉलर के इस कॉन्ट्रैक्ट को सस्पेंडकर दिया गया था.आरोप है कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने दबाव में महंगी वैक्सीन की डील की थी. ब्राजील में इस डील को लेकर जब से गड़बड़ी की बात सामने आई थी, तभी से राष्ट्रपति जायर बोल्सनारो हर किसी के निशाने पर थे.

KHABARDAR Express...

संसदीय पैनल भी कोरोना प्रबंधन को लेकर जांच कर रहा है, जिसके सामने ये मामला भी उठा. सवाल ये भी था कि ब्राजील के पास फाइज़र की वैक्सीन खरीदने का ऑप्शन था, लेकिन उसने भारत बायोटेक से महंगी वैक्सीन खरीदी ब्राजील में भारतीय कंपनी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन खरीद को लेकर तूफान मचा हुआ है. ब्राजील की जायर बोल्सोनारो सरकार ऊंचीकीमत पर कोवैक्सीन सौदा  करनेको लेकर उलझती दिख रही है. विवाद में जब राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो पर सवाल उठे तो उन्हें सामनेआकर सफाई देनी पड़ी, लेकिन इसके बादवूज मामला शांत हुआ.

KHABARDAR Express...

अब ब्राजील के एक सीनेटर ने जायर बोल्सोनारो के खिलाफ सुप्रीमकोर्ट में मुकदमा दायर किया है और वैक्सीन खरीद में भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच की मांग की है. कोरोना महामारी से निपटने के तौर तरीकों की सीनेट कमीशन की जांच में मामला सामने आने के बाद अब दक्षिणपंथी रुझान वालेराष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो के खिलाफ … यह मुकदमा दर्ज किया गया है. ब्राजील का संघीय अभियोजक भारत बायोटेक की कोवैक्सीन कीदो करोड़ डोज के लिए 32 करोड़ डॉलर के सौदे की जांच कर रहा है ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी का कहना था किउन पर ऊंची कीमत पर कोवैक्सीन का सौदा करने का दबाव था और इस बात से उन्होंने राष्ट्रपति को भी … अवगत कराया था.

KHABARDAR Express...

सुप्रीम कोर्ट में अगर आरोप साबित हुए तो जायर बोल्सोनारो को राष्ट्रपति के पद से हटाया जा सकता है. हालांकि इसके लिए अभियोजक जनरल ऑगस्टो अरास की मंजूरी की जरूरत होगी जो कि जायर बोल्सोनारो के राजनीतिक सहयोगी हैं.

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *