Sunday, May 9, 2021
Dark black and orange > World News > Recent News > नहीं रहा “खमेर रूज” के जमाने का जेलर, 16 हजार लोगों की कराई थी हत्या

नहीं रहा “खमेर रूज” के जमाने का जेलर, 16 हजार लोगों की कराई थी हत्या

रिर्पोट- आर सी ढ़ौड़ियाल

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौततानाशाह “खमेर रूज” की सत्ता के दौरान में करीब 16 हजार कंबोडियाई नागरिकों को यातना देकर मार वाले पूर्व जेलर कियांग गुयेक इआव की 77 साल की उम्र में मौत हो गई.

KHABARDAR Express...

आपको बता दें कि आजीवन कारावास की सजा काट रहे कियांग को पिछले काफी दिनों से सांस लेने में तकलीफ होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 1970 के दशक में कियांग कंबोडिया के तानाशाह खमेर रूज के प्रमुख जेलर थे. तानाशाह के खिलाफ आवाज उठाने वाले हर कैदी को वो जेल में यातनाऐं देकर मार दिया करते थे.

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौत

गौरतलब है कि करीब 16 हजार से ज्यादा लोगों की हत्या और तानाशाह खमेर रूज का साथ देने की वजह से कियांग को युद्ध अपराधी घोषित किया गया था. 1970 के दशक में वो तानाशाह खमेर रूज के शासनकाल में ये उनका खास अधिकारी और प्रमुख जेलर हुआ करते थे. कियांग को डच के नाम से भी लोग पुकारते थे.

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौत

1970 के दशक में जब लोगों ने खमेर रूज के खिलाफ विद्रोह हुआ तो तानाशाह के कहने पर कियांग ने क्रूरता की सभी हदें पार कर दी थी. इस युद्ध में करीब 17 लाख लोगों की मौत हुई थी. कियांग ने विद्रोहियों के दमन के लिए ज्यादातर लोगों को यातना देकर मार दिया गया था.तब मौत का यह आंकड़ा उस वक्त कंबोडिया की कुल जनसंख्या का करीब 25 फीसदी था.

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौत

KHABARDAR Express...

यातना देकर 16 हजार लोगों को मौत के घाट उतारनेवाले पूर्व जेलर कियांग को संयुक्त राष्ट्र समर्थित कोर्ट ने साल 2009 में हुई सुनवाई के बाद कारावास की सजा सुनाई थी. जेल में ही सांस लेने में तकलीफ होने के बाद उनको कंबोडियन सोवियत फ्रेंडशिप अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी मौत हो गई.

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौत

साल 2009 में कारावास की सजा मिलने के बाद साल 2013 में कियांग को कंदाल प्रांतीय जेल में स्थानांतरित किया गया था जहां उनकी तबीयत बिगड़ गई थी.

हो गयी है क्रूर सिंह जेलर कियांग की मौत

आपको बता दें कि साल 2010 में कियांग (डच) संयुक्त राष्ट्र समर्थित ट्रिब्यूनल ने खमेर रूच शासनकाल के दौरान के दोषी ठहराए जाने वाले ये पहले वरिष्ठ अफसर थे. राजधानी नोम पेन्ह में ट्रिब्यूनल के एक प्रवक्ता ने बिना कारण बताए उनकी मौत की सूचना दी और बताया कि वो कई सालों से बीमार थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *