खतरे की घंटी, एकबार फिर सरकार को आइना दिखा रहे हैं पुलिस के परिवार, सरकार से की ये मांग

खबरदार ब्यूरो

हिंदुस्तान की फौज और पुलिस देश के दो ऐसे महकमें हैं जो सरकार की किसी भी नीति और फैसले का सार्वजनिक विरोध नहीं करते हैं, तब चाहे उनकी मांग जायज ही क्यों ना हो लेकिन उत्तराखंड में ऐसा नहीं है पहले भी अपनी जायज मांगों को लेकर पुलिस कर्मी फेस बुक और दूसरे सोशल में प्लेट फार्म के जरिए अपना विरोध जाता चुके हैं, आलम ये था कि उस बक्त मामला शांत कराने में सीनियर अधिकारियों के पसीने छूट गए थे। लेकिन उसी मामले को लेकर इसबार पुलिस कर्मियों के परिजन खुले आम सामने आ गए हैं और हाथ में अपनी मांग की तख्ती थामें वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है देखनेवाली बात ये होगी कि इस बार सर इस मामले से कैसे निपटती है, कोरो ना वॉरियर होने के चलते जानता की सिम्पैथी भी पुलिस के साथ है ऐसे में चुनावी साल में किसी की नाराजगी भारी भी पड़ सकती है

KHABARDAR Express...


पुलिस कर्मियों की बेतन विसंगति की मांग को लेकर प्रदेश के विधायकों और मंत्रियों ने तक कहा है कि यह मांग जायज है, उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अब तक सिर्फ और सिर्फ आश्वासन ही दिया गया है।

आपको बता दें आखिर मामला है क्या, पूर्व में पुलिसकर्मियों को 16 वर्ष की सर्विस के बाद 46सौ ग्रेड-पे दिया जाता था, अब सरकार पुलिसकर्मियों को 20 वर्ष की सेवा पूरी करने के बाद भी 46सौ की जगह 28सौ ग्रेड पे देने की तैयारी कर रही है।

सरकार के निर्णय से पुलिसकर्मी काफी निराश और हताश हैं, साथ ही अब पुलिसकर्मियों के परिजनों ने सरकार से मांग की है, वह पुलिसकर्मियों का 46सौ ग्रेड-पे लागू करें। पुलिसकर्मियों के परिजनों ने एक वीडियो के माध्यम से अपना विरोध जताया हैं।

पुलिसकर्मियों के परिजनों द्वारा निर्मित वीडियो में पुलिस के कर्तव्य व साहसिक कार्यों को बताते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों की मांग जायज है और प्रदेश सरकार को 46सौ ग्रेड-पे लागू करना चाहिएस्लग वेतन विसंगति को दूर करने की मांग की विसंगति को दूर करने की मांग को लेकर प्रदेश के विधायकों और मंत्रियों ने तक कहा है कि यह मांग जायज है

, उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अब तक सिर्फ और सिर्फ आश्वासन ही दिया गया है। आपको बता दें आखिर मामला है क्या, पूर्व में पुलिसकर्मियों को 16 वर्ष की सर्विस के बाद 46सौ ग्रेड-पे दिया जाता था, अब सरकार पुलिसकर्मियों को 20 वर्ष की सेवा पूरी करने के बाद भी 46सौ की जगह 28सौ ग्रेड पे देने की तैयारी कर रही है। सरकार के निर्णय से पुलिसकर्मी काफी निराश और हताश हैं, साथ ही अब पुलिसकर्मियों के परिजनों ने सरकार से मांग की है, वह पुलिसकर्मियों का 46सौ ग्रेड-पे लागू करें। पुलिसकर्मियों के परिजनों ने एक वीडियो के माध्यम से अपना विरोध जताया हैं। पुलिसकर्मियों के परिजनों द्वारा निर्मित वीडियो में पुलिस के कर्तव्य व साहसिक कार्यों को बताते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों की मांग जायज है और प्रदेश सरकार को 46सौ ग्रेड-पे लागू करना चाहिए

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *