कांवड़ यात्रा को लेकर बैक फुट पर सरकार

खबरदार ब्यूरो

कांवड़ यात्रा पर सीएम योगी की तल्खी के बाद उत्तराखंड सरकार बैक फुट पर आ गई है अब सीएम धामी के मुताबिक लोगों की आस्था का ख्याल रखा जाएगा और उनको कांवड़ के लिए सरकार उचित व्यवस्था करेगी इस बयान को देखकर माना जा रहा है कि सीएम योगी आदित्यनाथ की नाराजगी के बाद उत्तराखंड सरकार को अपना फैसला पलटना पड़ा है इससे पहले डीजीपी अशोक कुमार ने साफ कर दिया था कि इस साल कांवड़ यात्रा नहीं होगी और अगर कोई कांवड़िए जबरदस्ती करेगा तो उसके साथ सख्ती से पेश आया जाएगा, अब खुद सीएम दामी के ताजा बयान से तो यही लग रहा है कि सीएम योगी की नाराजगी के बाद सरकार ने अपना फैसला पलटा है

KHABARDAR Express...

कांवड़ यात्रा पर रोक रहेगी। ऐसे में शिव के अभिषेक के लिए गंगा जल उपलब्ध कराने के विकल्प पर विचार किया जा रहा है। कांवड़ यात्रा प्रतिबंध होने पर जलाभिषेक के लिए बैठक में एक विशेष विकल्प पर भी विचार किया गया है। इसके तहत क्षेत्र विशेष के लोग टैंकर से गंगाजल ले जा सकते हैं। इस टैंकर से जल लेकर स्थानीय मंदिरों में जलाभिषेक किया जा सकता है।

कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध: यात्रा को लेकर डीजीपी ने की सात राज्यों के अधिकारियों संग बैठक इस बैठक में उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने साफ कर दिया है कि अगर कोई कांवड़िया कांवड़ लेने  हरिद्वार आएगा तो उस पर कार्रवाई होगी

KHABARDAR Express...

दरअसल, कांवड़ यात्रा पर रोक रहेगी। ऐसे में शिव के अभिषेक के लिए गंगा जल उपलब्ध कराने के विकल्प पर विचार किया जा रहा है। डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में सभी अधिकारियों से बात की है।

इसके तहत प्रत्येक थाना स्तर पर तैयारी की जाने की जरूरत है। थाना पुलिस अपने क्षेत्र की कांवड़ समितियों के साथ बैठक करेगी। इसके बाद यदि उस क्षेत्र से एक हजार लोग कांवड़ लेकर आते हैं, उनमें से प्रतिनिधि के रूप में कुछ लोग टैंकर से गंगा जल ले जा सकते हैं।

KHABARDAR Express...

इसमें हरिद्वार पुलिस प्रशासन भी सहयोग करेगा। इससे न तो बेवजह भीड़ होगी और न ही आदेशों का उल्लंघन होगा। इस विकल्प पर लगभग सभी अधिकारियों ने सहमति जताई है। 

सड़क मार्ग पर बॉर्डरों को प्राइवेट वाहनों के लिए तो बंद कर दिया जाएगा। असल चुनौती बसों और ट्रेन से आने वाले यात्रियों को पहचानने में होगी। इस बाबत भी पुलिस अधिकारियों का कहना है कि इंटेलीजेंस इसके लिए क्रियाशील रहेगी। 

KHABARDAR Express...

डीजीपी ने बताया कि हरिद्वार की सीमाओं पर यात्रा अवधि में अतिरिक्त चौकसी बरती जाएगी। पिछले साल उत्तर प्रदेश और अन्य राज्यों की जनता ने सहयोग किया था। इसके लिए कुछ दिनों तक ही सख्ती बरती गई थी। इसके बाद ढिलाई भी हुई, लेकिन फिर भी जनता नहीं आई थी। अब इस साल भी सभी बॉर्डरों पर अतिरिक्त पुलिस बल को लगाया जाएगा।

KHABARDAR Express...

कांवड़ मेले में जल लेने के लिए स्थानीय लोगों की संख्या बेहद कम रहती है। वर्ष 2019 में कांवड़ मेले में करीब तीन करोड़ श्रद्धालु आए थे। इनमें से स्थानीय यात्रियों की संख्या महज 1.6 प्रतिशत थी। सबसे अधिक हरिद्वार 32 प्रतिशत और फिर उत्तर प्रदेश 27 फीसदी थी। पिछले साल कांवड़ यात्रा नहीं हुई थी। 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *