Sunday, May 9, 2021
Dark black and orange > World News > Recent News > उत्तराखंड़ ने 124 साल बाद ये क्या गुल खिलाए

उत्तराखंड़ ने 124 साल बाद ये क्या गुल खिलाए

रिर्पोट- आर सी ढौड़ियाल

देश में 124 सालों के बाद एक दुर्लभ प्रजाति का फूल लिपरिस पैगमईखिला है। उत्तराखंड के चमोली जिले में सप्तकुंड ट्रेक इलाके में फूल के खिलने की पुष्टि हुई है। भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण पुणे के वनस्पति विज्ञान के विशेषज्ञ जीवन सिंह जलाल कहते हैं कि इन दिनों चमोली जिले के 3800 मीटर की ऊंचाई में ये फूल खिला है।

गौरतलब है कि उत्तराखंड वन विभाग के दो अधिकारियों ने जून महीने में भी इस दुर्लभ फूल के खिलने की पुष्टि की थी।  ड़ा जलाल कहते हैं कि दुर्लभ प्रजाति का यह फूल जून महीने में पांच सेंटीमीटर तक खिलता है और यह पहली बार पश्चिमी हिमालय में खिला है। 

KHABARDAR Express...

देश में 124 सालों के बाद एक दुर्लभ प्रजाति का फूल ‘लिपरिस पैगमई’ खिला है। उत्तराखंड के चमोली जिले में सप्तकुंड ट्रेक इलाके में फूल के खिलने की पुष्टि हुई है।इससे पहले यह फूल सिक्किम में 1892 और 1877 और फिर बाद में पश्चिम बंगाल में 1896 में देखा गया था। कहते हैं हमारे लिए यह बहुत ही गौरव की बात है कि दशकों के बाद यह फूल दोबारा खिला है और चुनौती भी है कि हम सभी को हिमालय संरक्षण के लिए कदम उठाना चाहिए।

देश में 124 सालों के बाद एक दुर्लभ प्रजाति का फूल ‘लिपरिस पैगमई’ खिला है। उत्तराखंड के चमोली जिले में सप्तकुंड ट्रेक इलाके में फूल के खिलने की पुष्टि हुई है।वैज्ञानिक जलाल बताते हैं कि फूलों की करीब 1250 से प्रजातियों में से 250 प्रजातियाँ उत्तराखंड के 3100 से 3900 मीटर की उच्च हिमालयी इलाके में पाई जाती है।  जलाल ने ‘लिपरिस पैगमई’ की तीन प्रजातियों की पहचान की है। भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण संस्थान के वनस्पति विज्ञान विभाग के विशेषज्ञों ने फ्रेंच साइंटिफिटिक जनरल  ‘रिर्चडाइना’ में इसी साल जुलाई 30 को एक रिर्पोट प्रकाशित भी की है।

KHABARDAR Express...

देश में 124 सालों के बाद एक दुर्लभ प्रजाति का फूल ‘लिपरिस पैगमई’ खिला है। उत्तराखंड के चमोली जिले में सप्तकुंड ट्रेक इलाके में फूल के खिलने की पुष्टि हुई है।रिसर्च पेपर ‘लिपरिस पैगमई’ (मैलाक्सिडिया व ऑर्चीडेसिया ) नया विभाजक रिकॉर्ड को संयुक्त रूप से  भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण,पश्चिमी रीजनल सेंटर, पुणे के जीवन सिंह जलाल, दिनेश कुमार,भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण,सिक्किम हिमालय रीजनल सेंटर, गैंगतोक, मनोज सिंह, जूनियर रिसर्च फैलो, फॉरेस्ट रिसर्चविंग और हरीश नेगी,फॉरेस्ट रेंज ऑफिसर उत्तराखंड ने प्रकाशित किया है। 

KHABARDAR Express...

देश में 124 सालों के बाद एक दुर्लभ प्रजाति का फूल ‘लिपरिस पैगमई’ खिला है। उत्तराखंड के चमोली जिले में सप्तकुंड ट्रेक इलाके में फूल के खिलने की पुष्टि हुई है।रिसर्च पेपर के अनुसार, ‘लिपरिस पैगमई’ की करीब 320 प्रजातियां है, जिनमें से करीब 48 प्रजातियां देश में है। 48 प्रजातियों में से 10 प्रजातियां पश्चिमी हिमालय में मिली है। चमोली के सप्तकुंड में ट्रेकिंग के दौरान, मनोज सिंह को इस प्रजाति के फूल की प्रजाति मिली थी,जिन्हें वह सैंपलिंग के लिए ले आए थे।  जीवन सिंह जलाल बताते हैं कि फूल को इथोनॉल में संरक्षित कर बीएसआई के विशेषज्ञ को स्टडी के लिए भेजा गया है। यह पहली बार हुआ है जब पश्चिमी हिमालय में इस फूल की प्रजाति मिली है।

KHABARDAR Express...

दुर्लभ प्रजाति के फूल मिलने से इस बात के संकेत भी हैं कि ऊपरी हिमालयी क्षेत्रों चारगाह की स्थिति अब ठीक है।  कहते हैं कि पिछले 100 सालें में सिक्किम व पश्चिम बंगाल में यह फूल यह सिर्फ एक बार ही दिखाई दिया है।

चीफ कंसर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट (रिसर्च विंग ) संजीव चतुर्वेदी कहते हैं कि उत्तराखंड के लिए यह बहुत ही गर्व की बात है कि फ्रेंच जनरल में इस फूल बारे में लेख प्रकाशित किया गया है। गौरतलब है इस जर्नल को वनस्पति जगत का एक प्रतिष्ठित जर्नल माना जाता है और पूरी दुनिया इस जर्नल में छपे लेखों पर भरोसा करती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *