इराक और सीरिया पर सख्त हुआ पेंटागन

खबरदार ब्यूरो

वियना में परमाणु समझौते को लेकर ईरान और छह शक्तिशाली देशों मेंचल रही वार्ता के बीच में अमेरिका ने इराक और सीरिया में एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया है. येहवाई हमले ईरान समर्थित मिलिशिया गुटों के ठिकानों को निशाना बनाते हुए किए गए हैं….. जून की शुरुआत में इराक में रॉकेट हमला हुआ था जिसमें एक अमेरिकी सैनिक और अन्य गठबंधन सैनिक घायल हो गए थे.

KHABARDAR Express...

अमेरिका ने जवाबी कार्रवाई के तहत ये एयरस्ट्राइक की है. राष्ट्रपति जो बाइडेन के निर्देश में अमेरिकी सेना ने रविवार को इस हमले को अंजाम दिया. इस हवाईहमले को ईरान को चेतावनी के तौर पर देखा जा रहा ताकि वो अमेरिकी सैनिकों को निशाना बनाने वाले आतंकी गुटों को समर्थन न दे. बाइडेन पहले ही ईरान को संकेत दे…

KHABARDAR Express...

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने बताया कि मिलिशिया गुट इराक में अमेरिकी सैनिकों को निशाना बनाने के लिए इन ठिकानों का इस्तेमाल कर रहे थे. किर्बी ने कहा कि अमेरिकी सेना ने तीन ऑपरेशनल और हथियार भंडारण केंद्रों को निशाना बनाया है. इनमें दो सीरिया में और एक इराक में है. किर्बी ने अमेरिकी हमलों को अपनी रक्षा में उठाया गया कदम करार दिया है. उन्होंने कहा कि ईरान समर्थित मिलिशिया गुटों के हमलों के जवाब में एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया है.

KHABARDAR Express...

पेंटागन के प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका ने अपने सैनिकों के खिलाफ जोखिम को कम करने के मकसद से इन हमलों को अंजाम दिया है. यह मिलिशिया गुटों को एक चेतावनी संदेश भी है. एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के मुताबिक इस एयर स्ट्राइक को राष्ट्रपति बाइडेन के निर्देश पर अंजाम दिया गया. बाइडेन ने राष्ट्रपति बनने के 5 महीने के भीतर दू गुटों के खिलाफ जवाबी हमले का आदेश दिए हैं. अभी यह पता नहीं चल पाया है कि इस अटैक में कोई मारा गया है या नहीं.इस साल फरवरी में इराक में एक रॉकेट हमले में ठेकेदार की मौत हो गई थी जबकि एक अमेरिकी और अन्य गठबंधन सैनिक घायल हो गए थे. उस समय बाइडेन ने कहा था कि ने कहा था कि ईरान को सीरिया में अमेरिकी हमलों को चेतावनी के रूप में देखना चाहिए.

KHABARDAR Express...

अगर ईरान मिलिशिया गुटों का समर्थन करता है तो उसे इसके नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहना चाहिए. किर्बी ने रविवार को कहा कि राष्ट्रपति बाइडेन अपने सैनिकों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध हैं. इराक में अमेरिकी हितों को निशाना बनाने वाले ईरान समर्थित गुटों के हमलों को देखते हुए राष्ट्रपति ने जवाबी सैन्य कार्रवाई का निर्देश दिए हैं.

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *