अब COVID -19 से निपटने के लिए अरविंद केजरीवाल की मोदी को चार सलाह

विकराल हो रहे कोरोना और black fungus महामारी के इस दौर में भी दिल्ली सरकार को अपने लोगों से ज्यादा राजनीति भा रही है अगर ऐसा नहीं होता तो देश के कई दूसरे राज्यों की तरह अरविंद केजरीवाल भी कोरोना वैक्सीन के लिए निजी कंपनियों से टेंडर बुला सकते थे लेकिन उनको इसके लिए केंद्र सरकार के साथ राजनीति जो करनी है अगर सच में दिल्ली सरकार चाहती तो जो सलाह केजरीवाल केंद्र को दे रहे है उसको खुद अपना सकते थे और दिल्ली के लोगों के लिए जरूरी वैक्सीन मुहैय्या हो सकती थी गौरतलब है कि उत्तराण्ड जैसे छोटे पहाड़ी राज्य की सरकार ने भी corona वैक्सीन को निजी टेंडरिंग के जरिए मंगाने का फैसला लिया है और जल्दी ही इसके टेंडर भी होने वाले हैं इसके अलावा देश के कई दूसरे प्रदेश भी निजी टेंडरिंग के जरिए अपने प्रदेश के लिए कोरोना की वैक्सीन मंगा रहे हैं

KHABARDAR Express...

दिल्ली में वैक्सीन खत्म होते ही अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की मोदी सरकार को 4 सुझाव दिए हैं आज से दिल्ली में युवाओं का वैक्सीनेशन बंद हो गया है दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में वैक्सीन खत्म हो चुकी है|आज से दिल्ली में युवाओं का वैक्सीनेशन बंद हो गया है| जैसे ही हमें और वैक्सीन मिलेगी हम सेंटर को फिर से शुरू कर देंगे, गौरतलब है कि दिल्ली को लगभग हर महीने 80 लाख वैक्सीन की जरूरत है| मई में हमें 16लाख वैक्सीन मिले और जून के लिए केंद्र ने और भी कम कर दिया, केंद्र सरकार ने हमें जो चिट्ठी दी है उसमें जून की वैक्सीन 8लाख मिलने की बताई है अभी तक दिल्ली में हम 50लाख वैक्सीन लगा चुके हैं दिल्ली को दिल्ली में एडल्ट को वैक्सीनेशन करने के लिए हमें लगभग 2:50 करोड वैक्सीन और चाहिए,यदि इसी प्रकार से 8लाख हमें प्रत्येक महीने मिलेगी तो दिल्ली को पूरा वैक्सीन लगाने के लिए करीब 30 महीने से भी ज्यादा लगेंगे,तब तक न जाने कितने करोना की लहरें आ जाएंगे और कितने लोगों की जानें चली जाएगी. करोना की वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए हमें जरूरी कदम उठाने होंगे, मैं केंद्र सरकार को 4 सुझाव देता हूं, पहला सुझाव 1- कोवैक्सीन बनाने वाली भारतीय बायोटेक कंपनी अपनी वैक्सीन को बनाने का फार्मूला दूसरे कंपनियों को देने के लिए तैयार हो गई है| देश में वैक्सीन बनाने वाली बहुत सारी कंपनियां हैं केंद्र सरकार उन सभी कंपनियों को तुरंत बुलाये और बैठक करें,और उन्हें आदेश दें रिक्वेस्ट ना करें समयबद्ध तरीके से तय समय पर युद्ध स्तर पर सारी कंपनियां वैक्सीन बनाने का काम शुरू करें, मैं पूरी बन्म्र्ता से कहता हूं अगले 24 घंटे में इन सारी कंपनियों को यह आदेश दिए जाए, दूसरा सुझाव -साथ ही सभी विदेशी वैक्सीन को भारत में इस्तेमाल करने की तुरंत इजाजत दीजिए,यह सभी 24 घंटे के अंदर होना चाहिए इसमें भी केंद्र सरकार भी कोई भी देरी ना करें, विदेशी कंपनियों से भारत सरकार सीधे बात करें,इसे रज्यों के उपर न छोड़ें,कुछ देशों की सुनने में आ रही है कि उन्होंने जरूरत से ज्यादा वैक्सीन को अपने यहां स्टोर कर रखा है,उनसे रिक्वेस्ट करे, चौथा सुझाव जितने भी विदेशी कंपनियां वैक्सीन बनाने वाली है उन्हें भारत में उत्पादन करने कीअनुमति दी जाय , मैं भारत सरकार से अनुरोध करता हूं कि दिल्ली को तुरंत वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए जिसे हम अपना वैक्सीन का कार्यक्रम शुरू कर सके और दिल्ली का वैक्सीन का कोटा भी बढ़ा जाए,दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में वैक्सीन खत्म हो चुकी है|आज से दिल्ली में युवाओं का वैक्सीनेशन बंद हो गया है| जैसे ही हमें और वैक्सीन मिलेगी हम सेंटर को फिर से शुरू कर देंगे,दिल्ली को लगभग हर महीने 80 लाख वैक्सीन की जरूरत है| मई में हमें 16लाख वैक्सीन मिले और जून के लिए केंद्र ने और भी कम कर दिया, केंद्र सरकार ने हमें जो चिट्ठी दी है उसमें जून की वैक्सीन 8लाख मिलने की बताई है
अभी तक दिल्ली में हम 50लाख वैक्सीन लगा चुके हैं दिल्ली को दिल्ली में एडल्ट को वैक्सीनेशन करने के लिए हमें लगभग 2:50 करोड वैक्सीन और चाहिए,यदि इसी प्रकार से 8लाख हमें प्रत्येक महीने मिलेगी तो दिल्ली को पूरा वैक्सीन लगाने के लिए करीब 30 महीने से भी ज्यादा लगेंगे,तब तक न जाने कितने करोना की लहरें आ जाएंगे और कितने लोगों की जानें चली जाएगी.
करोना की वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए हमें जरूरी कदम उठाने होंगे, मैं केंद्र सरकार को 4 सुझाव देता हूं, पहला सुझाव 1- कोवैक्सीन बनाने वाली भारतीय बायोटेक कंपनी अपनी वैक्सीन को बनाने का फार्मूला दूसरे कंपनियों को देने के लिए तैयार हो गई है|
देश में वैक्सीन बनाने वाली बहुत सारी कंपनियां हैं केंद्र सरकार उन सभी कंपनियों को तुरंत बुलाये और बैठक करें,और उन्हें आदेश दें रिक्वेस्ट ना करें समयबद्ध तरीके से तय समय पर युद्ध स्तर पर सारी कंपनियां वैक्सीन बनाने का काम शुरू करें,
मैं पूरी बन्म्र्ता से कहता हूं अगले 24 घंटे में इन सारी कंपनियों को यह आदेश दिए जाए, दूसरा सुझाव -साथ ही सभी विदेशी वैक्सीन को भारत में इस्तेमाल करने की तुरंत इजाजत दीजिए,यह सभी 24 घंटे के अंदर होना चाहिए इसमें भी केंद्र सरकार भी कोई भी देरी ना करें,
विदेशी कंपनियों से भारत सरकार सीधे बात करें,इसे रज्यों के उपर न छोड़ें,कुछ देशों की सुनने में आ रही है कि उन्होंने जरूरत से ज्यादा वैक्सीन को अपने यहां स्टोर कर रखा है,उनसे रिक्वेस्ट करे, चौथा सुझाव जितने भी विदेशी कंपनियां वैक्सीन बनाने वाली है उन्हें भारत में उत्पादन करने कीअनुमति दी जाय ,
मैं भारत सरकार से अनुरोध करता हूं कि दिल्ली को तुरंत वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए जिसे हम अपना वैक्सीन का कार्यक्रम शुरू कर सके और दिल्ली का वैक्सीन का कोटा भी बढ़ा जाए

अब ये गौर करने वाली बात है कि जब कोरोना और ब्लैक फंगस से कई लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे हो ऐसे समय में लोगों की जान बचाने के लिए युद्धस्तर के प्रयासों की बजाय एक दूसरे पर आरोप लगाना लोगों की जिंदगीयों से खिलवाड़ करने के बराबर है जब निजी टेंडर के जरिए Coron की वैक्सीन मंगाई जा सकती है तो दिल्ली सरकार का इसके लिए केंद्र के भरोसे रहना राजनीति ही मानी जाएगी

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *